Bounce Rate क्या है और इसे कैसे कम करे?

अगर आप एक blogger या website का owner हे तो आपको पता होना चाहिए की Bounce Rate क्या है (What is bounce rate in SEO) अगर आप नहीं जानते हे तो मे इस Post मे bounce rate के बारे मे details मे बताऊँगा |
किसी भी नये या पुराने website के लिए Bounce rate बहुत ही बड़ा factor डालता हे क्यू की इससे किसी भी वेबसाईट या blog मे कितना visitors आ रहे हे और आपका blog के article को पढ़ रहे हे मतलब विज़िटर कितना आपके blog पर time दे रहे हे वो पता चल जाता हे |

अगर आपकी भी Site का Bounce rate ज्यादा हो रहा हे तो इसका मतलब आपकी  site users को अच्छा response  नहीं दे प रहा है

अगर आपका blog नया हे तब bounce Rate ज्यादा होना आम बात है। क्यू की सुरुवात  मे readers आते नहीं हे और आते तो ज्यादा देर तक रुकते नहीं क्यू की आपके blogg पर उतना post नहीं होता हे इसलिए, लेकिन अगर पुराना Blog है तब Bounce Rate ज्यादा होना ये साबित करता हे की आपका earning 0 Rs हे |

Bounce Rate क्या है (What is Bounce Rate in SEO)

अगर आप अपनी blog या site के Search Engine के first page पर लाना चाहते हे तो आपको Proper seo के साथ आपको content की quality को बढ़ाना पड़ेगा और साथ ही साथ Bounce rate को कम करना पड़ेगा तभी ये Possible हे।

जब visitor आपके blog या website में आते है और एक Page को देखने बाध वो back हो जाते हे, मतलब जो पेज पर click कर आए हे उसे ही Visit करते है और वो back button से वापस हो जाते हे तो इसको Bounce बोला जाता है। लेकिन Bounce Rate का मतलब  उन visitors का percentage है जो की आपके page पे आते हैं और कोई दुसरे दूसरे page या कोई link पर click किये बिना ही वापस चले जाते हैं।

इसका ये मतलब है की visitors तो आ रहे हे परंतु तुरंत वापस भी चल जा रहे बिना किसी दुसरे page या किसी link को खोले, या बिना आर्टिकल को पढे।

अगर ऐसा आपके blog पर हो रहा हे तो आप जान जाए की आपके ब्लॉग का पोस्ट मे कोई  Interesting बात नहीं है या कोई Interesting post नहीं हे जिससे visitor को आकर्षित या फिर ये हो सकता है की इसकी Theme का design भी कुछ ख़ास नहीं है, heading भी attractive नहीं है।

अगर Bounce Rate ज्यादा होते ही जा रहा हे तो आपको समझ जाना चाहिए की आपके site के visitors दिन व दिन कम होते जा रहे होंगे और अगर visitor कम हुए तो Search Engine के ranking में भी कमी आएगी और finally income तो 0 Rs हो जाएगा | तो एक उदाहरण के जरिए और अच्छे से Bounce Rate क्या है समझाता हूँ.

अगर किसी का website या फिर कोई blog है, जिसका Bounce Rate 45% या 60 % हैं. तो इसका मतलब यही हे की उस website में 45% या 60 % ही visitor ऐसे हैं जो की एक ही page खोलते  है और तुरंत ही back button से वापस चले जाते हैं।

शायद उनके पढने लायक कुछ ज्यादा नहीं मिला हो  या content interesting नहीं लगा हो. इसके कई अलग अलग कारण होते हे Blog या website के अनुसार  जिनके विषय में हम आगे और details मे  जानेंगे. तो चलिए जानते हैं की bounce Rate कितने होने चाहिए किसी Blog या Website के लिए -:

# SERP क्या है और कैसे काम करता है?
# best Free Online Backlink Checker Tools
# Anchor Text क्या है और SEO के लिए कितना जरुरी है?

Bounce Rate कितना होना चाहिए

अब तक तो आपको bounce rate के बारे मे थोड़ा idea हो ही  गया होगा की  Bounce Rate क्या है।
एक blog या website के लिए Bounce Rate  कितना होना अच्छा है, कितना होने से चलेगा और कोनसा आपके site के लिए बेकार होता है. इसे और भी details से  समझने के लिए मैंने इसे 4 भागों में बाँट दिया है।
वेसे तो bounce rate न हो तो बहुत  ही ज्यादा अच्छा हे किसी वेबसाईट एवं  ब्लॉग के लिए पर ऐसा नहीं हो सकता हे।  0% Bounce Rate  सिर्फ Product Selling Site  पर ही हो सकता हे या उसमे भी कुछ न कुछ bounce Rate हो ही जाता हे।

1% से 10% Excellent
10% से 40% Good
40% से 70% Average
70% से ज्यादा Bad

अगर 1% से 10% के अंदर कोई blog या website का bounce Rate है तो वो बहुत ही  successful websites के list में आते है. उसके बाद अगर 10% से 40% तक आती है तो भी ठीक ठाक है।  उनके भी traffic आते होंगे, वही जो तीसरे में 40% से 70%, के लिस्ट मे आते हे इसमें आम तोर पर ज्यादातर website और blog शामिल होते हैं. जो की उतनी अच्छी नहीं traffic को जेनरैट कर पता हे  फिर भी काम चलने लायक है।

यदि हम सभी Websites का  list तैयार करे तो कुल 75% से 80% website इसी CATEGORY मे आएंगे और आख़िरकार जिन websites की bounce rate 70% से ज्यादा होती है, वो बिलकुल भी ठीक नहीं है उनका earning  0 RS होगा और उन्हें अपने website के ऊपर बहुत  ही ज्यादा काम करना होगा।

मे बता दू  की  सभी प्रकार के websites के bounce rate समान नहीं  होते हैं।  अलग-अलग तरह की websites के लिए bounce rate अलग अलग होते हैं.जेसे कुछ E commerce site ,tools साइट ,sale site होते उनके bounce rate भी अलग अलग होते हे यहाँ मेने कुछ लिस्ट दिया हे जो बताएगा की अलग अलग website के लिए कितना bounce रेट होना चलेगा :-

Content वाली websites – 40-60%
Lead generate करने वाली websites – 30-50%
Blogs – 70-98%
Retail कारोबार करने वाली sites – 20-40%
services provide websites – 10-30%
Landing Pages – 70-90%

Bounce Rate को कम कैसे करें?

1. Content Quality वाला ही  लिखे

blog मे content को ही king माना गया हे इसलिए content पर ज्यादा ध्यान दे अगर आपका कंटेन्ट मे दम नहीं होगा मतलब अधूरा जानकारी रहेगा या visitor जो ढूंढ रहे हे वो पढ़ कर संतुस्ट नहीं होंगे तो वो  वो BACK हो जाएंगे और दोबारा आपके blog पर नहीं आएंगे।
तो आप लाख seo कर लो backlink बना लो न विज़िटर आएंगे और न ही आपको कभी earning होगा इसके विपरीत आपके blog का bounce रेट 90+ हो जाएगा |

2. Site Design और Look अच्छा होना चाहिए

जो अच्छा दिखता हे वही सबसे पहले बिकता भी हे इसलिए अपने blog का theme अच्छा चयन करे उसमे Template का भी use करे उसमे navigation अच्छा रखे तभी attractive लगेगा, जब visitor आपके blog पर आएंगे तब कम  से ऊपर से नीचे तक scroll कर के जरूर देखेंगे।

जिससे कुछ टाइम तक आपके ब्लॉग पर रहेगे वही दूसरी और Font Color और Text Size का चयन सही से करे, जैसे अगर आप text का font लाल कर देंगे या बहुत बड़ा या बहुत ही छोटा कर देंगे तो readers को पढ़ने मे काफी दिकत होगी ओर वो blog से back हो जाएंगे  और साथ मे ये भी ध्यान रखे ही ज्यादा सजाने मे पूरा site को रन – बिरंगा न बना दे या ज्यादा Adds न लगाए इसे देखने मे बहुत बेकार लगेगा । Site का design simple attractive और Readers friendly बनायें.

3.Page Load Time

पेज load Time किसी भी website के लिए बहुत ज्यादा important factor डालता हे क्यू की आपने देखा होगा की गूगल के first page पर जो भी रिजल्ट शो करता हे अगर उसपर क्लिक करेंगे तो 2 second या फिर उससे भी कम समय मे खुल जाता हे | और आप उस website को विज़िट करते हे, ठीक इसी के विपरीत अगर आपका site खुलने मे ज्यादा वक्त लगा रहा हे तो वो बैक होकर तुरंत दूसरे साइट को open करेंगे और फिर आपके blog या website पर दुबारा नहीं जाना पसंद करेंगे।

इसलिए आप अपने blog या site का page loading time 2 second या इससे भी काम करे तभी blogg के लिए अच्छा होगा |और आपकी साइट का bounce rate भी काम होगा  site पर visitor बार बार आएंगे |
page load time कम करने के लिए आपको अच्छा hosting के साथ लाइट weight theme का चयन करना पड़ेगा और उसको Optimize करना पड़ेगा |

4. Internal Linking

आप Post के बिच-बिच मे internal link डाले जो इसी content se related हो अगर आप post मे internal link नहीं डालते तो bounce Rate 100% बढ़ ही जायेगा. ऐसा इसलिए क्यू की readers को post पढ़ने के बाध जो पोस्ट से related link हे अगर उसके बारे मे जानने की जिज्ञासा हुई तो निश्चित तोर पर link पर click करेगा और दूसरा post को भी पढ़ेगा क्यूंकि अक्सर कुछ समय के बाध readers आपके contents को पढ़ लेंगे और back होंगे अगर आप related internal link डालें हे तो reader आपके content पर कुछ समई जरूर देंगे जिससे bounce rate कम  होने मे काफी मददगार साबित होगा.

5. Internal Link दुसरे Page में ही खुलना चाहिए

जब भी आप post मे internal link डाल रहे हे तो ये जरूर ध्यान रखे की internal link का post दूसरे tab मे ही खुले जिसे reader current post से साथ साथ Link वाला post भी पढे और अपना Time दे जिससे Bounce Rate  कम हो।
इसे करने के लिए simple सा setting करना पड़ता हे जो बहुत ही आसान हे।

6. Write Long Length Article

अगर article का length कम रखते हे तो  visitor आपके article को तुरंत पढ़ लेंगे और बैक हो जाएंगे  और सायद संतुस्ट भी न हो इस इतने कम length की article को पढ़ कर,अगर वो back जाते हे तो  इससे bounce rate बढ़ सकता हे।
आप कम से कम 1000+ और और ज्यादा से ज्यादा 2000 से 3000 के बीच article का content को रख सकते हे। जिससे बढ़िया seo भी होगा और Yoast seo plugin का signal भी green हो जाएगा जो blog के लिए अच्छा हे।
किसी भी article को deeply समझाने के लिए आपको इतने word जरूर लग जाएंगे और आपके visitor को भी ज्यादा knowledge भी मिल जाएगा |साथ ही साथ bounce rate भी कम हो जाएगा |

7. Post Title Attractive और related बनाए

आपको post का title attentive और relative रखना हे जेसे की आपको इस post मे Bounce rate क्या हे और केसे कम करे title हे और post के अंदर भी इसी के बारे मे जानकारी दिया गया हे मतलब related content भी हे।

अगर आप पोस्ट का title सिर्फ  visitor को attract करने के लिए रखा हे और उस post का कंटेन्ट कुछ और के बारे मे बता रहा हे तो visitor तुरंत back हो जाएंगे और bounce rate बहुत ही ज्यादा बढ़ जाएगा | इसे black hat seo मे count किया जाएगा जिससे site को भी penalize भी  किया जा सकता हे।

8. Mobile Friendly Design

आज के internet की दुनिया मे Computer/laptop से ज्यादा smart Phone यूजर हो गए हे। India मे ही सिर्फ लागभग 390 मिलियन Mobile से internet को access करते हे।

तो कितना जरूरी हो जाता हे की आप अपने site को mobile friendly बनाए नहीं तो लागभग 390 मिलियन user मे से कितने यूजर को आप खो देंगे मतलब website को ठीक से नहीं चला (access )पाने पर वो दोबारा आपके Blog पर कभी नहीं आएंगे।

इसलिए आप अपने साइट को perfect मोबाईल friendly रखे | इससे मोबाईल से भी वो आपके content को पढ़ सके,
मोबाईल से visitor आते हे तो आपका traffic भी बहुत जी ज्यादा आएगा और bounce रेट भी कम होगा |

9. video का उपयोग करें

अगर site पर video हे तो  use का time ज्यादा extend होता हैं क्यू की अगर video visitor 2 minute भी देखेंगे तो वो आपके site को 2 min दिए हे और अगर वो back भी होते हे तो bounce rate नहीं बढ़ेगा।
Video bounce rate को कम करने के लिए बहुत ही अच्छा तरीका  हैं।

कोई भी video, Text या Image की compare में अधिक ध्यान आकर्षित करते हैं। आप अपने ब्लॉग मे content लिखने के साथ साथ video मे माध्यम से भी समझ सकते हे

10.Table of Contents बनाए

 Bounce Rate kya he

यह विजिटर का ध्यान आकर्षित करता है और आपकी content के बारे में quick जानकारी दिखाता है। जिससे visitor जिस content के बारे मे जानकारी लेना चाहता हैं उस पर direct click करने से तुरंत उस पर चल जाए।

word press में कई Free Plugin उपलब्ध हैं जिनका उपयोग करके आप अपनी साईट पर Table of Contents add कर सकते हैं और quick जानकारी Provide करवा सकते है ।

मेरा अंतिम निर्णय

आज की जानकारी काफी महत्वपूर्ण थी. अगर आप Blogging की  सुरुवात की हैं और तरक्की करना चाहते हो तो.  मुझे उम्मीद है की यह Article आपके लिए सही मददगार हुई होगी. अब तक आप समझ ही गए होंगे की Bounce Rate क्या है (What is bounce rate in SEO) और Bounce Rate कैसे कम करे. मैंने उपर जितने भी point मे तरीके बताया हैं उनको ध्यान में रखते हुए Blogging को आगे लेके जाएँ.

अगर अभी भी कोई सवाल आप पूछना चाहते हो तो निचे Comment Box में जरुर लिखे. आपके इन्ही comments से हमें कुछ सीखने और कुछ सुधारने का मोका मिलेगा.और कोई सुझाव देना चाहते हो तो दीजिये जिससे हम कुछ नया कर सके.
Thank You…..

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here