Home seo On Page SEO क्या है और कैसे करे – What is On...

On Page SEO क्या है और कैसे करे – What is On Page SEO in Hindi

On page seo

यदि आप इस seo की जानकारी रखते हैं तब तो आपको पता होगा कि On Page Seo क्या होता है और अगर नहीं पता है तो हम इस पोस्ट में आपको पूरी जानकारी देने वाले हैं |
on Page Seo को ही on-site Seo कहा जाता हे कही confuse होने की जरूरत नहीं हे |
On Page Seo, Seo का ही Important पाट है On Page Seo किए बिना Complete Seo कभी भी नहीं हो सकती हे |
On Page  Seo यानी की अपनी website या Blog को better optimized करना ओर search engine मे first page पर लाना इसी technique को हमलोग on page seo कहते हे | ये optimized भी हम 2 तरीके से करते हे
#1. On Page Seo
#2. Off Page Seo
इस पोस्ट मे हम ऑन पेज seo के बारे मे जनेगे |
सुरुवात मे नए Blogger के साथ ऐसा ही होता हे की उसने बहुत सारे पोस्ट Publish किए हो पर उस पर ट्रैफिक बिल्कुल नहीं आती है इससे का मतलब यही होता है कि उसने On Page Seo ढंग से नहीं किया हो उसकी ब्लॉग के पोस्ट सही ढंग से ऑप्टिमाइज़ करने की ज़रूरत है.
अगर आपने On Page Seo सही ढंग से अपने पोस्ट पर कर देते हे तो आपका पोस्ट जो published किए हे गूगल का First page के Top 10 मे तो जरूर अजाएंगे |
अगर हम सरल भाषा मे बात करें तो वो सारे तरीके जिससे हम अपने ब्लॉग को Search Engine  के फर्स्ट पेज के पहले Number पर  रैंक करने के लिए इस्तेमाल करते हैं उसे हम Search Engine Optimization कहते हैं |

On-Page SEO क्या है

Post या Article लिखते समय हम जिन-जिन Technique  को फॉलो करते हैं उसे ही On Page Seo करते हैं, अगर हम इसको बहुत ही अच्छे ढंग से सीख लेते हे ओर  Post मे Implement करते हे तो हमारा हर पोस्ट सभी सर्च इंजन में फर्स्ट पेज पर आसानी से Rank कर सकता है |
इसमें हम Keyword Research, Post Title, Permalinks, Meta Description, Quality Content, Keyword का सही जगह मे प्रयोग, Image Optimization,Heading का सही इस्तेमाल, Internal और External Linking इसके अलावा और भी कई टेक्नीक्स का इस्तेमाल करते हैं|
जिस दिन आप इन Technique को सही से Implement करना सिख लिया ओर करने लगे तो आप की ब्लॉग भी सभी सर्च इंजन के पहले रैंक पर आने लगेगी |

On Page Seo क्यों करते हे ?

रेश के मेदान मे लंगड़ा घोडा नहीं दोड़ता ओर अगर उसे जबरदस्ती दोड़ा भी दे तो वो रेश नहीं जीत सकता हे इसलिए हम भी इस Blogging के commutation मे रेश लगा रहे हे जिसका seo,on page seo, off page seo,ठीक होगा या वो अपने blog मे ये Technique को ध्यान मे रख कर publish किया होगा उसी का post गूगल के first पेज पर रैंक होगा | इसलिए हमलोग On Page Seo करते हे |
On Page SEO कैसे करे (On Page SEO in Hindi)
On Page SEO कुछ Point के through आपको समझने की कोसिस की जाएगी जिससे आप बेहतर तरीके से समझ मे आ जाएगा |
Title tags
Headings
Permalink
Alt text for images
Site speed
Internal links
Meta descriptions
On Page SEO Techniques in Hindi
1. Title Tags:
प्रत्येक title tag unique, descriptive होनी चाहिए, साथ में ये उस page के विषय में जानकारी प्रदान करनी चाहिए की वो page किस विषय में है, एसा आप कभी न करे की title कुछ ओर लिखा हे ओर उस post मे जानकारी कुछ ओर के बारे मे हे |
एसा करने से negative Impact जाएगा |
Title को इन्हें एक keyword के साथ optimize भी करना होता है और इनकी length 60 characters के भीतर होनी चाहिए|
इसके साथ मे आपको इस बात पर भी ध्यान रखना चाहिए की अपने Main Keyword को Title के सुरुवात मे रखे |
what is on page seo
2. Headings
Headings हमेशा relevant और descriptive शब्दों पर ज्यादा focus  होनी चाहिए |
आप अपने Article या contents मे सुरू के 100-150 words मे ही targeted keyword को रखे | मतलब जो Blog का first paragraph होता हैं आपके Post का उसी मे आपका Focus keyword होना चाहिए |
तथा उसके बाध आप अपने contents को छोटे छोटे हिस्सों में break कर के लिखे जिससे Readers को पढ़ने मे बहुत Attractive ओर अच्छा भी लगे |
sub-heading (H2 से लेकर H6) का इस्तमाल कर सकते हैं,
3. Permalink:
permalink को  हमेस छोटा और keyword को साथ मे लेकर मतलब URL मे भी focus Keyword होना चाहिए,बेकार दिखने वाला या बिना मतलब निकलने वाला URL को ignore करे उदाहरण के लिए :-
hindiguru.info/seo kya he 123   Bad
इसके साथ URL को ज्यादा बड़ा भी नहीं बनना चाहिए जेसे :
hindiguru.info/What-is-Seo-seo-kya-he-इसकी- पूरी-जानकारी-hindi-मे       Bad
hindiguru.info/On-Page-Seo       Good Job
4. Alt text for images:
Image को हम अपने visitor को Attract करने के लिए इस्तेमाल करते हैं| एक Image मे बिना कुछ लिखे हुए भी बहुत कुछ बता देता हे की Image किस Topic को बता रहा हे या समझा रहा हे |
हम अपने पोस्ट के टॉपिक को बिना लिखे ही Describe कर सकते हैं |
Visitor perfectly Optimized Image से समझ जाते हैं की उन्हे जो इन्फर्मेशन चाहिए वो यहाँ मिल जाएगी |
हम Post मे जो Image add करते हैं उस image का नाम भी वही डालना चाहिए जो Target keyword हैं . (for example: on-page-seo.jpg)
इस तरह से Image का नाम कभी भी न use करे :-
12142015.jpg
1207pm.jpg
a. ALT Tag
Image Optimization का second step Alt Tag को add करना होता हे | तभी complete Image optimize होगा |
Image optimization करने का दूसरा reason यह भी की Google का boats इमेज को read नहीं कर पता हे,वो सिर्फ ओर सिर्फ Text को ही read करता हे इसलिए इमेज मे हमलोग Alt Text डालते हे जिससे गूगल Image को भी Text की मदद से रीड करे |
दूसरी बात यह भी हे की अगर कोई google मे इमेज भी सर्च करता हे ओर वो आपकी image पर click करता हे तो वो डायरेक्ट आपके blog पर आ जाएगा जिससे Traffic बढ़ेगी |
5. Site speed:
Google ये भी record करता हे की आपकी blog के loading speed कितना हे |
Page load speed बहुत ही महत्वपूर्ण होती है क्यूंकि slow-loading pages की ज्यादा high bounce rates होती है (बड़ता हे )
आपकी site कम से कम  Time मे खुले ये कोसिस होनी चाहिए नहीं तो visitor दूसरे Site मे Migrate हो जाते हे| आपकी site 2 से 4 secs के अंदर ही खुलना चाहिए ओर अगर एसा नहीं होता हे तो Search Engine आपकी Blog या जो page खुलने मे ज्यादा time ले रहा हे उसे penalize कर देगा |इआलिए आप अपने Blog की page speed को fast करने की कोसिस करते रहे |
6. Internal links:
इन्टर्नल लिंक उसे कहते हे अपने post मे अपना ही Blog का किसी दूसरे पोस्ट को link लगा देना जिसपर क्लिक कर दूसरे Post मे direct जा सकते हे |
इससे User engagement बढ़ता हे इसलिए हम internal linking का इस्तेमाल करते हैं.
इसे search engines को काफी मदद मिलता है आपकी साइट को समझने के लिए और pages को index करने के लिए
मान लीजिए मेरे एक Post मे बहुत ज्यादा traffic आ रहा है बाकी पोस्ट की तुलना मे तो, उस पोस्ट से हम दूसरे पोस्ट का लिंक add कर के ट्रॅफिक पा सकते हैं| इससे हमारा दूसरा post मे भी Traffic बढ़ सकती हे |
लेकिन याद रहे Related Post को इंटर्नल लिंक्स के रूप मे add करे |
7. Meta descriptions:
ये हमारी Blog और Post के बारे मे brief (छोटी ) जानकारी होती हे, जिसमे हम 150 शब्द मे पूरा page के बारे मे बताते हे की इसमे क्या हैं
ये page की content को summarize करता हैं |
कहा जाता हे न की first Impression is the Last Impression,यही काम हमारा Meta Description भी करता है.
Meta descriptions मे भी focus Keyword का use करना चाहिए | जिससे Post index हो सके |
8. Use Social Sharing Buttons :

हमे  अपने Blog मे Social share Button ओर Whattsapp जेसे apps का बटन जरूर लगाना चाहिए अगर कोई रीडर्स को किसी Friend या Social Group मे इस Post को Send करना चाहे तो एसी परिरस्थिती को सरल बनाने के लिए हमे सोशल शेरिंग बटन को लगाना चाहिए |
अगर हमारी content की Quality अच्छी है तो फिर इसे सोशल Share Button के ज़रिए भी हमारे Readers हर जगह शेयर करेंगे. शेरिंग का Option ना रहने से चाहते हुए भी उसे कोई शेयर नही करेगा |
सोशल शेयरिंग का इस्तेमाल कर के हम अपने पेज View बढ़ा सकते हैं| सोशल साइट से जब visitor आएंगे तो हमारे ब्लॉग का Traffic increase हो जाएगा जिसे अच्छा इंकम generate होगा |
9. Content Length :
जब आप post लिख रहे हो तो आपको यह ध्यान मे रखना चाहिए की आपकी contents लगातार ना होना चाहिए, मतलब आप जब पोस्ट लिख रहे हो तो 300 से ज्यादा का Word न हो अगर उससे ज्यादा Word आप लिखते हैं तो आपको Sub Title देना पड़ेगा नहीं तो Yoast Seo में Green signal नहीं होगा आपको Error (Red) ही रहेगा |
जब आप Sub-Title  देंगे तो H2 या H3 में रखें जिसे Search Engine को समझने में दिक्कत ना हो कि आपको पोस्ट किस बारे में है जिससे आपकी पोस्ट Index हो सके |
उमीद हे की आपको On-Page Optimization को अच्छी तरह से समझ मे आया होगा , अगर आपको कुछ समझने मे कही दिक्कत आ रही हे तो आप comment करके अपना feedback दे या आपका कोई सबाल है तो आप पूछे |

NO COMMENTS

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here